पंजाब के मेडिकल माफिया का काला सच: भ्रूण-हत्या गोलियों की सरे-आम बाज़ारी

ज़ख्म का इलाज देने वालों ने ही ज़ख़्मी किया सच की तलाश करते पत्रकारों को।

नवतेज टीवी पंजाब न्यूज़ चैनल के वरिष्ठ पत्रकार कुलविंदर सिंह और संवाददाता गगन के साथ गयासपुर साहनेवाल, लुधियाना, पंजाब में ऐसी बर्बरता भरा वाक्या घटा है जो न सिर्फ पंजाब की सरकार पर, बल्कि देश की सरकार पर भी प्रश्न-चिन्ह खड़ा करता है। कुलविंदर सिंह और उनके संवाददाता गगन लुधियाना के गयासपुर साहनेवाल क्षेत्र में कुछ दवाई की दुकानें जिनके नाम है कुमार मेडिकल, पाल मेडिकल और नाइस मेडिकल, उन पर स्टिंग कवरेज करने पहुंचे थे। सूत्रों के हवाले से खबर मिली थी की शहर की मेडिकल दुकानों पर भ्रूण हत्या या एबॉर्शन की गोली बिना किसी डॉक्टर के पर्चे के गैर क़ानूनी रूप से बेची जा रही है। इसी सच का पर्दा-फाश करने के लिए नवतेज टीवी पंजाब के पत्रकारों ने स्टिंग करने का फैसला किया। लेकिन जब ये बात मेडिकल एसोसिएशन वालों को पता चली, तब उन्होंने कुलविंदर सिंह और गगन को चुप करवाने के लिए भीड़ बुलाकर उनके साथ मार पीट करवाने का रास्ता चुना। बात सिर्फ मारपीट तक ही सीमित नहीं थी, उनके ऊपर इलज़ाम भी लगाया गया की ये पत्रकार पैसे की मांग भी कर रहे हैं स्टिंग के बदले।

लेकिन मेडिकल माफिया की ये हरकत इस बात का सबूत है की वे अपनी आपराधिक सच्चाई छुपाने की कोशिश के चलते ऐसे हथकंडे अपना रहे हैं, क्यूंकि नवतेज टीवी द्वारा किये गए कवरेज में साफ़ दिखाई दे रहा है की कैसे मेडिकल स्टोर वाले उन्हें भ्रूण-हत्या की गोली बिना किसी पर्चे के दे रहे हैं। ये तो महज़ कुछ मेडिकल स्टोर की बातें हैं, ऐसी न जाने कितनी ही मेडिकल की दुकाने होंगी जो पंजाब के गली-मुहल्लों पे भ्रूण-हत्या का सामान बेच रही हैं और सरकार को कानो-कान खबर भी नहीं है।

एक तरफ जहाँ सरकार भ्रूण-हत्या जैसे होने वाले अपराधों के खिलाफ बात करती है, वही पंजाब में हो रहे ऐसे वाक्ये साफ़ बताते हैं की ज़मीनी तौर पे नियमों का पालन करना तो दूर, मेडिकल माफिया लोगों का उल्टा साथ देता है ऐसे अपराध पेश करने में। बिना डॉक्टर के पर्चे के भ्रूण-हत्या की दवाई बेचना न सिर्फ गैर कानूनी है, बल्कि इन गोलियों को खाने वाले की सेहत पे भी बहुत बुरा असर पड़ सकता है। ऐसे अपराधी न सिर्फ इन दवाईओं को बेच कर देश में भ्रूण-हत्या को बढ़ावा दे रहे हैं, बल्कि कई मासूम जानों को भी जोखिम में डाल रहे हैं। ऐसे केमिस्ट ये एबॉर्शन किट न सिर्फ बेच रहे हैं, बल्कि इस कटी को उपयोग करने का तरीका भी बताते हैं जो किसी भी डॉक्टर द्वारा या उस किट में लिखी उपयोग विधि से उल्टा है। इन एबॉर्शन कीटों को बाजार में ऐसे केमिस्ट 300 से 500 रुपये के बीच बेचा जाता है।

आपको बता दें, भीड़ में बुलाये गुंडों द्वारा भी किसी को पीट देना भी हमारे देश के लिए कोई नयी बात नहीं है। भारत जैसे लोकतांत्रिक देश में आज भी कुछ लोगों की टुकड़ी नफरत और साज़िश के चलते कब किसकी जान ले ले पता नहीं। और यही नवतेज टीवी पंजाब के पत्रकारों के साथ भी हुआ।

अगर देश में एक पत्रकार सुरक्षित नहीं है, तो सरकार देश की आम-जनता की सुरक्षा की बातें कैसे कर सकती है। देश के किसी भी व्यक्ति ने यदि किसी अपराध के खिलाफ आवाज़ उठायी है, तो ऐसे और कितने लोगों को जान गवानी पड़ेगी इस बात का हिसाब सरकार को देना होगा।
पंजाब सरकार और पंजाब मेडिकल एसोसिएशन अगर इस बात पे अपनी चुप्पी साधे रहेगी तो न सिर्फ पत्रकार बल्कि पंजाब के हर उस व्यक्ति के साथ अन्याय होगा जो ये समझते हैं की वो एक सुरक्षित वातावरण में रह रहे हैं।

नवतेज टीवी के पत्रकार ऐसी बर्बरता से डर के पीछे नहीं हटेंगे, बल्कि इसके बाद ऐसे कई अपराधों को सामने लाने का काम करते रहेंगे जो देश की नीव को खतरे में डाल रहे हैं। और अगर किसी भी पत्रकार को किसी तरह की क्षति पहुँचती हैं तो इसका जवाब सरकार को ही देना होगा। क्यूंकि देश का मीडिया देश की जनता की आवाज़ है और जनता की आवाज़ को दबाना लोकतंत्र का क़त्ल करने जैसा है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close