पांच राज्यों में 960 कोविड केयर कोच तैनात

देश में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण से राज्यों में अस्पताल और बेड कम पड़ रहे हैं। इसलिए इस समस्या के निदान के लिए केंद्र सरकार और रेल मंत्रलाय ने कमर कस ली है। भारतीय रेल ने कोविड-19 के खिलाफ राष्ट्रव्यापी अभियान में राज्य सरकारों को अपनी ओर से हर संभव मदद देने की कोशिश के तहत कोविड केयर कोच में बदले गए अपने 5231 रेल डिब्बों को राज्यों में तैनात करने की तैयारी में जुट गई है। जोनल रेलवे ने इन डिब्बों को कोविड के हल्के या मामूली संक्रमण वाले मरीजों की देखभाल के लिए इस्तेमाल करने के अनुरूप बदला है।

अब तक, भारतीय रेल पांच राज्यों यानी दिल्ली, उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और मध्य प्रदेश में कुल 960 कोविड केयर कोच तैनात कर चुकी है। इनमें से 503 कोच दिल्ली में, 20 आंध्र प्रदेश में, 60 तेलंगाना में, 372 उत्तर प्रदेश में और 5 मध्य प्रदेश में तैनात किए गए हैं।
दिल्ली में, 9 स्थानों पर 503 ऐसे कोच तैनात किए गए हैं। इनमें से 50 शकुरबस्ती में, 267 आनंद विहार में, 21 सफदरजंग में, 50 सराय रोहिल्ला में, 33 दिल्ली कैंट में, 30 आदर्श नगर में, 13 शहादरा में, 13 तुगलकाबाद में और 26 पटेल नगर रेलवे स्टेशन में तैनात किए गए हैं।

उत्तर प्रदेश में, कुल 372 कोविड केयर कोच 23 अलग-अलग स्थानों.. दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन, लखनऊ, वाराणसी, भदोही, फैजाबाद, सहारनपुर, मिर्जापुर, सूबेदारगंज, कानपुर, झांसी, झांसी कार्यशाला, आगरा, नखा जंगल, गोंडा, नौतनवा, बहराइच, वाराणसी शहर, मंडुआडीह, मऊ, भटनी, बरेली सिटी, फर्रुखाबाद और कासगंज में तैनात किए गए हैं।

मध्य प्रदेश में, ग्वालियर में कुल 5 ऐसे कोच तैनात हैं। आंध्र प्रदेश में, विजयवाड़ा में कुल 20 कोविड देखभाल कोच तैनात हैं, जबकि तेलंगाना में, कुल 60 ऐसे कोच 3 अलग-अलग स्थानों यानी सिकंदराबाद, काछगुड़ा और आदिलाबाद में तैनात किए गए हैं।

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के दिशा-निर्देशों के अनुसार, इन राज्य सरकारों ने भारतीय रेल को कोविड केयर कोच के लिए अपनी आवश्यकताएं भेजी थीं जिसके अनुरूप रेलवे ने इन डिब्बों को राज्य / संघ शासित प्रदेशों को आवंटित कर दिया है। इन रेल कोच में डाक्टरों और अर्धचिकित्साकर्मियों की तैनाती संबंधित राज्य सरकारों की ओर से की जानी है। कोच खड़े किए जाने वाले प्रत्येक स्थान पर सरकारी अधिकारियों की सहायता के लिए रेलवे की ओर से दो संपर्क अधिकारी तैनात किए जाएंगे। मौसम की स्थिति के अनुरूप इन रेल में तापमान को कम रखने के सभी प्रयास किए जा रहे हैं।

रेलवे की ओर से जिन डिब्बों को कोविड केयर सेंटर के रूप में तब्दील किया गया है उनका इस्तेमाल स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों के अनुरूप केवल कोविड के ऐसे मरीजों के लिए किया जाएगा जिनमें मामूली या हल्का संक्रमण है। इन डिब्बों का इस्तेमाल ऐसे स्थानों में भी कोविड के संदिग्ध या पुष्ट मामलों से जुड़े मरीजों के लिए किया जाएगा जहां उन्हें अलग रखने की सुविधाएं पर्याप्त नहीं हैं या कम हो चुकी हैं। रेल डिब्बों को कोविड केयर सेंटरों की तरह इस्तेमाल किया जाना स्वास्थ्य मंत्रालय और नीति आयोग द्वारा विकसित की गई एकीकृत कोविड योजना का हिस्सा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close