3 प्रेमिकाओं के साथ एक ही मंडप में लिए सात फेरे, 15 साल से थे लिव-इन में

राज्य समाचार

यूं तो आपने हजारों शादियां देखी या सुनी होगी, लेकिन दुल्हा एक और दुल्हन तीन ऐसी खबर शायद ही आपने देखी या सुनी हो, लेकिन ऐसा हुआ है मध्यप्रदेश के अलीराजपुर जिले में, जहां दुल्हा तो एक था लेकिन उसके साथ सात फेरे लेने वाली थी तीन दुल्हनें, तो चलिये बताते है आपकों क्या है पूरा मामला। 

शादी के निमंत्रण कॉर्ड पर आपने देखा होगा कि लड़के के नाम के साथ लड़की का नाम लिखा होता है, लेकिन इस शादी में दुल्हे के नाम के साथ था तीन लड़कियों का नाम, दरअसल, 15 साल के दौरान आदिवासी बाहुल्य अलीराजपुर जिले के समरथ मौर्या को तीन युवतियों से प्रेम हुआ था. वह बारी-बारी से तीनों को भगाकर घर ले आए और तीनों को पत्नी की तरह रखा,   दूल्हे के अनुसार, वह 15 साल पहले गरीब थे इसलिए शादी नहीं कर पाए थे इसलिए अब कर रहे हैं। यहीं नहीं इस शादी में उनके इन 3 प्रेमिकाओं से पैदा हुए 6 बच्चे भी शामिल हुए, दूल्हे समरथ मौर्या और उनके बच्चे इस शादी से काफी खुश हैं. उन्होंने शादी समारोह में जमकर डांस भी किया।

बुलडोजर के साथ फोटो लेने की सजा प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा!

आदिवासी भिलाला समुदाय में लिव-इन में रहने और बच्चे करने की छूट है, लेकिन जब तक विधि-विधान से शादी नहीं होती, तब तक ऐसे लोगों को समाज के मांगलिक कार्यों में शामिल होने की इजाजत नहीं होती. इसलिए 15 साल और 6 बच्चों के होने के बाद समरथ मौर्या ने अपनी तीनों प्रेमिकाओं के साथ शादी रचाई, समाज के लोग बताते हैं कि अब दूल्हे और उसकी तीनों दूल्हनों को मांगलिक कार्यों में शामिल होने की अनुमति होगी। 


लेकिन आप सोच रहें होंगे कि क्या एक दूल्हे का अपनी तीन प्रेमिका के साथ शादी करना भारतीय कानून के तहत वैध है, तो हम आपको बता दें कि भारतीय संविधान का अनुच्छेद 342 के अनुसार आदिवासी रीति-रिवाज और विशिष्ट सामाजिक परंपराओं को संरक्षण मिला हुआ है, जिसके चलते इस अनुच्छेद के अनुसार इस एक दुल्हे की शादी तीन दुल्हनों के साथ गैर कानूनी नहीं मानी जायेगी।

कमेंट करें