बिजली गुल के चक्कर में गुम हो गई ‘दुल्हनें’, उजाला हुआ तो जली दुल्हे की बत्ती

राज्य समाचार

अक्सर आपने भारत में होने वाली शादियों को लेकर कई अजीबोगरीब कारनामें सुने होगें, लेकिन आज हम जो आपकों बताने वाले है वो शायद उन सभी कारनामों से अलग है, मामला मध्यप्रदेश के उज्जैन का है, जहां शादी समारोह के दौरान बिजली क्या गुल हुई बवाल ही मच गया, आप सोच रहे होंगे बिजली गुल होने में कैसा बवाल, हम आपकों बतां दे कि बिजली गुल होने से दुल्हनें बदल गई, तो क्या है पूरा माजरा, चलिये आपको बताते है।

शिक्षक को भगा ले गई ये खूबसूरत छात्रा, जानें पूरी Love Story

मध्यप्रदेश के उज्जैन बड़नगर के गांव दंगवाड़ा में रमेशलाल रेलोत की तीन बेटियों और एक बेटे की शादी 5 मई को थी, बड़ी बेटी कोमल का रिश्ता खीराखेड़ी गांव के राहुल से तय हुआ, दूसरे नंबर की बेटी निकिता का रिश्ता दंगवाड़ा के भोला से और तीसरे नंबर की बेटी करिश्मा का रिश्ता दंगवाड़ा के गणेश से तय हुआ, 5 मई की रात दंगवाड़ा और खीराखेड़ी से बरातें आईं। इस दौरान रात 8 बजे बिजली गुल हो गई, परिवार की रस्म के अनुसार सभी वर-वधुओं को पूजा करनी थी। 

रात. 1130 बजे वर और वधू पूजन के लिए रमेशलाल रेलोत के घर के एक कमरे में गए। वहां पुजारी पूजा करा रहे थे। बड़ी बेटी कोमल अपने वर राहुल के पास बैठी। इधर अंधेरा होने के कारण निकिता दूल्हे भोला के साथ न बैठते हुए गणेश के साथ बैठ गई। वहीं करिश्मा भोला के पास बैठ गई। सुबह जब दोनों दूल्हे अपनी अपनी दुल्हन लेकर घर पहुंचे तो इसका खुलासा हुआ।

दुल्हनें बदलने को लेकर परिवार में दो दिनों तक विवाद चलता रहा, आखिरकार दोनों परिवारों के बीच समझौता हुआ और परिजनों ने पंडित को बुलाकर पूजा पाठ कर फेरे की रस्म करवाई गई। इसमें जिस दूल्हे के साथ जिस दुल्हन की शादी होनी थी उसकी शादी कराई गई तब कहीं जाकर मामला ठंडा हुआ। परिजनों ने बताया कि अंधेरा होने और दुल्हनों के एक जैसी ड्रेस पहने होने के कारण यह अदला-बदली हो गई थी। कहते हैं ऊपर वाले ने सबके लिए जीवनसाथी पहले से तय कर रखा है, लेकिन बिजली गुल होने से यहां जीवनसाथी ही बदल गया। 

कमेंट करें