8 साल की उम्र में बन गया दुनिया का सबसे खतरनाक किलर, देखकर हो जाएगी पेंट गीली

जुर्म

सीरियल किलर का नाम लिया जाता है तो एकाएक आपके दिमाग में एक शातिर व्यक्ति की तस्वीर उभरती है, क्योंकि आम तौर पर सीरियल किलर बड़ी उम्र के होते हैं, लेकिन आज हम आपको दुनिया के सबसे कम उम्र के सीरियल किलर के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसने केवल 8 साल की उम्र में कई लोगों को बेदर्दी से मार दिया, तो एक 8 साल का बच्चा कैसे बना सीरियल किलर बताते है आपको पूरी कहानी। 

जिस उम्र में बच्चे हंसते खेलते हैं उस उम्र में 8 साल का अमरदीप सदा लोगों की जान ले रहा था, बिहार के बेगूसराय जिले के एक छोटे से गांव में जन्मा ‘अमरजीत सदा’ महज 8 साल की उम्र में एक खूनी बन गया, दुनिया के सबसे छोटे सीरियल किलर की कहानी 2007 में शुरू हुई. जब बेगूसराय के मुसहरी गांव में एक के बाद एक दो मासूमों की हत्या हुई. पूरे गांव में दहशत फैल गई. लेकिन जब एक और बच्चे की हत्या हुई, तो सब सकते में आ गए. सब हैरान थे कि रहस्यमयी तरीके से कौन इन हत्याओं को अंजाम दे रहा है. 

कातिल सबके सामने था, लेकिन कोई इस बात को समझ नहीं पा रहा था। साल 2007 में अमरदीप सदा ने अपनी छह महीने की बहन की हत्या की थी, हत्या के बाद लोगों को शक हुआ कि बच्ची को किसी और ने नहीं, बल्कि अमरजीत सदा ने ही मारा है. जब ग्रामीणों ने उससे कड़ाई से पूछना शुरू किया तो उसने सबकुछ सच-सच बता दिया और कबूल किया कि उसने ही अपनी बहन को मारा है. इसके बाद तो ग्रामीणों के हाथ-पांव ही फूल गए, क्योंकि गांव में इससे पहले भी बच्चों की हत्या हुई थी। इसके बाद अमरजीत को पुलिस के हवाले किया गया तो पुलिस ने इन हत्याओं के पीछे की वजह पूछी, तो उसकी बातें सुन सब हैरान रह गए. उसका कहना था कि लोगों को मारने में उसे मजा आता था. 


इसीलिए उसने उनकी हत्या कर दी। यहीं नहीं पूछताछ में हर गुनाह कबूल करने के बदले अमरजीत सदा पुलिस से बिस्किट मांगता था।केस की जांच करने वाले पुलिस अफसरों का कहना था कि उन्होंने इससे पहले ऐसा केस नहीं देखा था, पुलिस की डांट का भी इस मासूम क्रिमिनल पर कोई असर नहीं पड़ता था, कोर्ट में जब इसे पेश किया गया तो जज ने ये माना कि बच्चों की हत्या करते वक्त उसे सही गलत का पता नहीं था. इसलिए उसे बाल सुधार गृह भेजा गया। 

कमेंट करें