जामा मस्जिद में हनुमान मंदिर होने के दावे से मचा हाहाकार, जानें पूरा सच

मुख्य पृष्ठ

वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद में हुए सर्वे को लेकर कहा जा रहा है वहां कुएं से शिवलिंग मिला है, तो हिन्दू और मुस्लिम पक्ष के बीच एक बार फिर से विवाद छिड़ गया है, इसी बीच अब सूदूर कर्नाटक में एक नया विवाद खड़ा हो गया है, कि वहां जो मस्जिद है वहां पर कभी एक हनुमान मंदिर हुआ करता था, तो क्या है ये नया विवाद चलिये आपको बताते है।  ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे मामले में  कोर्ट ने ज्ञानवापी मस्जिद परिसर के उस तालाब को सील करने का आदेश दिया है, जहां "शिवलिंग" पाया गया है, ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे के दौरान मस्जिद के ऊपरी हिस्से में जहां नमाज पढ़ी जाती है, 

उसके पास वजू करने की एक जगह है. जिसके लिए एक छोटा तालाब बनाया गया है. इस तालाब में एक शिवलिंग मिलने की बात कही जा रही है, इसको लेकर एआईएमआईएम चीफ औवेसी का कहना है वो शिवलिंग नहीं, फव्वारा था, ज्ञानवापी मस्जिद थी और जब तक अल्लाह दुनिया को कायम रखेगा, वह मस्जिद ही रहेगी, जिसके बाद एक नई राजनीति शुरू हो गई है।

दरगाह के पास मंदिर बनाने पर भड़की हिंसा, धारा 144 लागू!
वहीं अब सूदूर कर्नाटक में खड़े हुए विवाद के बाद कर्नाटक की राजनीति में भी हडकंप मच गया है, ये विवाद खड़ा हुआ है कर्नाटक में टीपू सुल्तान के शासनकाल में बनाई गई एक मस्जिद को लेकर, जिसे लेकर दावा किया जा रहा है कि जिस जगह पर मस्जिद है वहां पर कभी एक हनुमान मंदिर हुआ करता था, कर्नाटक के श्रीरंगपट्टन नामक जगह पर एक जामा मस्जिद है. जिसके बारे में बताया जाता है कि इसे टीपू सुल्तान ने बनवाया था. 

लेकिन अब कुछ हिंदू संगठनों ने दावा किया है कि वहां पहले एक मंदिर हुआ करता था. जिसे टीपू सुल्तान ने तोड़कर उसकी जगह मस्जिद का निर्माण करवाया. जिसे लेकर अब विवाद शुरू हो गया है. हिंदू संगठनों ने उस मस्जिद में पूजा करने की मांग की है. हिंदू संगठनों का दावा है कि जो दस्तावेज मौजूद हैं उनसे साबित होता है कि वहां पर एक हनुमान मंदिर हुआ करता था. दावा तो इस बात का भी किया जा रहा है कि मस्जिद की दीवारों पर हिंदू शिलालेख मिले हैं, वो ये साबित करने के लिए काफी है कि वहां पहले मंदिर हुआ करता था।


श्रीरंगपट्टन में स्थित जामा मस्जिद को लेकर वहां मंदिर होने के दावों ने जोर पकड़ा है, तभी से मस्जिद की तरफ से सुरक्षा बढ़ाने की मांग की जा रही है. लेकिन अभी तक कर्नाटक सरकार या किसी बड़े अन्य संगठन द्वारा इस मामले में कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है।

कमेंट करें