मंदिर में बदमाशों का तांडव, हनुमान जी की मूर्ति से निकाली आंखे और गीता-रामचरित मानस को लगाई आग!

राज्य समाचार

इन दिनों साम्प्रदायिक सौहार्द को बिगाड़ने की बहुत कोशिशे की जा रही है, जब मजहब के नाम पर सोशल मीडिया पर माहौल बिगाड़कर तो कहीं मदिरों में तोड़फोड़ कर, छतीसगढ़ के कोरबा में भी कुछ ऐसा ही हुआ है, जहां भगवान शिव के मंदिर में तोड़फोड़ के बाद हनुमान जी की मूर्ति में लगी आंखे निकाल ली गई और भगवद गीता और रामचरित मानस को जला दिया गया, आखिर क्या है ये पूरा मामला चलिये आपको बताते है। छत्तीसगढ़ के कोरबा के कोतवाली क्षेत्र में स्थित शिव मंदिर में तोड़फोड़ का मामला सामने आया है, जहां मंदिर का ताला तोड़कर असामाजिक तत्वों ने पहले शराब पी और उसके बाद ताडव मचाना शुरू किया, इन असामाजिक तत्वों ने मंदिर में स्थापित शिवलिंग के ऊपर लगे नाग को तोड़ दिया और हनुमान जी की मूर्ति में लगी हुई चांदी की आंखें भी निकाल ली, यहीं नहीं इतना सब करने के बाद भी जब इन लोगों का मन नहीं भरा तो इन्होने भगवद गीता और रामचरित मानस को जला दिया, मंदिर परिसर में शराब की बोतलें भी मिली हैं। असामाजिक तत्वों ने परिसर में कई जगह उल्टियां भी की हैं।


सुबह जब लोग मंदिर में पूजा पाठ करने पहुंचे तो उन्होंने मंदिर की स्थिति देखकर अन्य लोगों को इससे अवगत करवाया जिसके बाद वहां लोगों की भीड़ जमा हो गई, मौके पर पहुंची पुलिस से लोगों ने जल्द आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग की, पुलिस ने माहौल बिगड़ता देख एक्शन लेते हुए तीन संदिग्धों को हिरासत में लिया है, उनसे पूछताछ की जा रही है।

Auto में कैसे सवार हुए 27 लोग, देखकर पुलिस भी रह गई हैरान!

वहीं आपकों बतां दे कि जम्मू कश्मीर से भी ऐसा ही एक धार्मिक माहौल बिगाड़ने की कोशिश करने का मामला सामने आया है, यहां कठुआ में भगवान हनुमान की प्रतिमा को खंडित किया गया है, यहां के शिव मंदिर में रखी भगवान हनुमान की प्रतिमा को खंडित किया गया है, इलाके में इसके बाद तनाव है और शरारती तत्वों को जल्द से जल्द पकड़ने की अपील की है।इस तरह की धार्मिक माहौल बिगाड़ने की कोशिशों पर अब लगाम लगाना जरूरी है, इन धार्मिक माहौल बिगाड़ने वाले लोगों पर सख्त कार्रवाई की जाए ताकि इस प्रकार की घटनाओं पर अंकुश लगाया जाए

कमेंट करें