UP में सबकुछ ठीक नहीं, मंत्रियों-विधायकों की नाराजगी से बढ़ी CM योगी की चिंता!

राज्य समाचार

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार में सब कुछ ठीक चलता नजर नहीं आ रहा है, कल तक योगी सरकार में 3 मंत्रियों बृजेश पाठक, जितिन प्रसाद और दिनेश खटीक के नाराज होने की चर्चाएं हो रही थी आज एक और विधायक की नाराजगी सामने आई है, उन्नाव के सफीपुर से विधायक बंबा लाल दिवाकर का एक पत्र सामने आया है जिसमें उन्होंने अधिकारियों पर मनमानी करने का आरोप लगाया है, वहीं अपने साथ भेदभाव का आरोप लगाने वाले दिनेश खटीक से कल देर रात बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने मुलाकात की।मंत्रालय में तबादले की जांच और अपने करीबी के खिलाफ कार्रवाई से नाराज उत्तर प्रदेश सरकार के लोकनिर्माण मंत्री जितिन प्रसाद को पार्टी नेतृत्व ने मिलने का समय नहीं दिया। इसके उलट उन्हें तबादले की जांच के समर्थन में बयान भी देना पड़ा। दरअसल भाजपा नेतृत्व को जितिन की नाराजगी से ज्यादा जलशक्ति राज्य मंत्री दिनेश खटीक की आरोपों की चिंता है। नेतृत्व को डर है कि अगर इस मामले को जल्द नहीं सुलझाया गया तो सरकार और पार्टी में जातिगत स्तर पर विरोध के स्वर उठेंगे। दरअसल विधानसभा चुनाव से ठीक पहले राज्य के सीएम पर ओबीसी विरोधी होने का आरोप लगाकर कई मंत्रियों और विधायकों ने भाजपा से किनारा कर लिया था। तब भी स्थिति को संभालने के लिए पार्टी नेतृत्व को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी थी।

वहीं उन्नाव के सफीपुर से विधायक बंबा लाल दिवाकर का एक लेटर सामने आया है, जिसमें उन्होने डीएम और सीडीओ को लिखे गए पत्र में क्षेत्र के एक्जीक्यूटिव इंजीनियर पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं. विधायक ने आरोप लगाया है कि एक्जीक्यूटिव इंजीनियर रजनीश चंद्र अनुरागी फोन रिसीव नहीं करते. अगर फोन उठाते भी है, तो अनुचित और असंसदीय भाषा का इस्तेमाल करते हैं, विधायक ने इंजीनियर पर अनुशासनात्मक कार्यवाही करने की मांग की है।वहीं जल शक्ति राज्यमंत्री दिनेश खटीक के इस्तीफे पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने तंज कसा है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि जहां मंत्री होने का सम्मान तो नहीं, लेकिन दलित होने का अपमान मिले, ऐसी भेदभावपूर्ण भाजपा सरकार से त्यागपत्र देना ही अपने समाज का सम्मान रखने के लिए सही उपाय है। कभी-कभी बुलडोजर उल्टा भी चलता है। वहीं भाजपा आलाकमान ने सरकार और पार्टी में जातिगत विरोध के स्वर को देखते हुए दिनेश खटीक को उनकी समस्याओं के निराकरण का आश्वासन दिया है, बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने दिनेश खटीक को नसीहत दी है कि सरकार और पार्टी के मसले को पार्टी फोरम में ही उठाएं।योगी सरकार में उनके मंत्रियों और विधायकों में बढ़ता अंसतोष कहीं ना कहीं सीएम योगी के लिए चिंता खड़ी करने वाला है.

कमेंट करें