11 अक्टूबर को होगा भव्य महाकाल कॉरिडोर का उद्घाटन

राज्य समाचार

महाकाल की नगरी उज्जैन में महाकाल मंदिर कॉरिडोर बनकर तैयार हो गया है,  इस कॉरिडोर के बनने से महाकाल मंदिर अब पहले से ज्यादा भव्य हो गया है महाकाल कारिडोर के ड्रोन से लिए गए वीडियो से ही इसकी भव्यता का अंदाजा लगाया जा सकता है ये कारिडोर काशी विश्वनाथ मंदिर में बनाए गए कारिडोर से भी कहीं बड़ा है, इस प्रोजेक्ट को पूरा करने में करीब 750 करोड़ रुपये का खर्च किया जा रहा है.  

महाकाल मंदिर के इस कारिडोर में 18 हजार पौधे लगाए गए हैं, आंध्रप्रदेश के राजमुंद्री से रूद्राक्ष, बिल्व पत्र और शमी के पौधे मंगवाए गए हैं, उज्जैन में बन रहे कॉरिडोर का आकार काशी विश्वनाथ मंदिर से करीब 4 गुना बड़ा है, कॉरिडोर में शिव तांडव स्त्रोत, शिव विवाह, महाकालेश्वर वाटिका, महाकालेश्वर मार्ग, शिव अवतार वाटिका, प्रवचन हॉल, नूतन स्कूल परिसर, गणेश विद्यालय परिसर, रूद्रसागर तट विकास, अर्ध पथ क्षेत्र, धर्मशाला और पार्किंग सर्विसेस भी तैयार किया जा रहा है.

Congress अध्यक्ष चुनाव में गांधी परिवार को चुनौती देगा उनका ही भरोसेमंद नेता!

गलियारे में 25 फीट ऊंची और 500 मीटर लंबी लाल पत्थर की दीवार में शिव महापुराण में वर्णित घटनाओं के आधार पर चित्र बनाए गए हैं। वहीं 108 स्तंभ भी स्थापित किए गए हैं, जिन पर भगवान शिव की विभिन्न मुद्राएं बनी हुई हैं। इससे भक्तों को दर्शन करने और कॉरिडोर घूमने के दौरान खास अनुभव होने वाला है. खास बात है कि भव्य कॉरिडोर को चलाने के लिए करीब एक हजार लोगों की जरूरत होगी. ऐसे में लोकल लोगों के लिए रोजगार के नए मौके भी बनेंगे. 

महाकाल कारिडोर के दूसरे चरण की अगर बात करें तो इस चरण में बेगमबाग मार्ग, महाकाल धर्मशाला, अन्न क्षेत्र, बेगमबाग मार्ग, नीलकंठ वन, महाराजवाड़ा भवन जीर्णोद्धार, रुद्रसागर पर चारधाम मार्ग से महाकाल मंदिर के पीछे तक 220 मीटर लंबा पैदल पुल, रामघाट सौंदर्यीकरण, रेलवे के अंडर पास, महाकाल मंदिर पहुंचने के लिए रोड चौड़ीकरण का काम किया जाना है। इनमें से कुछ कार्य अभी भी चालू हैं, जबकि कुछ बंद पड़े हैं।


वहीं आपको बतां दे कि इस महाकाल कॉरिडोर का निर्माण कार्य 2019 में शुरू हुआ था. पूरा मंदिर परिसर दो हेक्टेयर में है, जिसके लिए करीब 750 करोड़ रुपए खर्च होंगे. निर्माण कार्य में खर्च होने वाले कुल खर्च में से 422 करोड़ रुपए राज्य सरकार करेगी, जबकि 21 करोड़ रुपए मंदिर समिति और शेष रकम केंद्र सरकार खर्च करेगी. कॉरिडोर निरिक्षण के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री 11 अक्टूबर को महाकाल कॉरिडोर का लोकार्पण करेंगे. इसे लेकर पूरी तैयारी पूरी हो गई है.

कमेंट करें