शिवपाल ने अखिलेश को दिखाये सख्त तेवर, जल्द करें फैसला नहीं तो...

चुनाव 2022
यूपी चुनावों में इस बार समाजवादी पार्टी बड़े दलों से गठबंधन नहीं करके छोटे दलों के साथ गठबंधन कर रही है। पिछले चुनावों में समाजवादी पार्टी का बिखरान ही उनकी सबसे बड़ी हार का कारण बना था इस चुनाव में अखिलेस ने चाचा शिवपाल की पार्टी को विलय करने के संकेत भी दिये हैं। लेकिन मुलायम सिंह यादव के 83वें जन्मदिन के मौके पर चाचा शिवपाल सिंह यादव ने अखिलेश को तेवर दिखाते हुए कहा कि पार्टी विलय को लेकर 1 सप्ताह में निर्णय लिया गया तो यह अच्छा नहीं होगा।

मुलायम के जन्मदिन पर चाचा शिवपाल यादव और भतीजे अखिलेश यादव के बीच की दूरियां खत्म हो जाएंगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ। शिवपाल यादव ने सपा से गठबंधन को लेकर जो मांग रखी है उसे अखिलेश यादव आसानी से पूरा नहीं करते नजर आ रहे हैं। अगर अखिलेश जल्द फैसला नहीं लेते है तो सपा और प्रसपा के बीच गठबंधन की उम्मीद खत्म हो सकती है।

अखिलेश यादव इस बार योग सरकार को बाहर करके अपनी सरकार बनाने में लगे हुये है और ऐसे में वह चाचा शिवपाल को लेकर नरमी दिखा रहे हैं। उन्होंने कई बार कहा है कि चाचा का पूरा सम्मान होगा और राजनीतिक लड़ाई में चाचा इस बार हमारे साथ होंगे।

शिवपाल ने सपा के साथ गठबंधन को लेकर पहली बार सार्वजनिक रूप से 100 सीटों की मांग की है। इस मांग को लेकर अभी तक उनके पास कोई जवाब नहीं आया है। अखिलेश चाचा को साथ लाना चाहते है ​लेकिन सीटों की ज्यादा मांग उनको खटक रही है और इसी वजह से इस गठबंधन पर कोई फैसला नहीं ले पाये हैं। 

सपा से गठबंधन या विलय की स्थिति में शिवपाल 80 से 100 सीटें चाहते हैं लेकिन अखिलेश यादव इस शर्तों पर राजी नहीं है। चाचा-भतीजे की लड़ाई से उनके परम्परागत वोट बैंक भी छटक रहा है और इस लड़ाई का फायदा बीजेपी को मिलेगा।

कमेंट करें