अयोध्या-काशी के बाद अब मथुरा की बारी पर भड़के अखिलेश

राज्य समाचार
अगले साल होने वाले उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले सभी पार्टियां अपना वोट बैंक मजबुत करने के लिये हर प्रकार की हथकंड़े काम में ले रही है। कोई धर्म के नाम पर तो कोई किसान के नाम पर तो कोई जाति के नाम पर वोट मांग रहे हैं। 
ले​किन चुनावों से पहले ‘मथुरा’ मन्दिर की की एंट्री हो चुकी है और इसके बाद यूपी की सियासत में भूचाल आ गया है। 

यूपी के उप मुख्यमंत्री केशवप्रसाद मौर्य ने ट्वीट करते हुये लिखा है कि अयोध्या, काशी में भव्य मंदिर निर्माण जारी है और अब मथुरा की तैयारी है। इस ट्वीट के बाद विपक्षी नेता आग बबूला हो गये। सपा अध्‍यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि बीजेपी को चुनावाों के समय में ही मन्दिर याद आता है लेकिन इस बार किसी भी नारे या मंत्र से उनकी बात नहीं बनेगी। मौर्य के इस बयान पर बीजेपी के नेताओं ने कोई जवाब नहीं दिया है।

यह बात किसी से छूपी नहीं है कि सीएम योगी के कार्यकाल में मथुरा पर विशेष ध्यान दिया गया है और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्यात बरसाने की लठामार होली को राजकीय मेले का दर्जा और जन्माष्टमी के आयोजनों भव्य रूप दिया है। श्रीकृष्ण जन्मस्थली के विवादित स्थल पर जलाभिषेक को लेकर कई हिन्दु संगठनों ने यात्रा निकालने का ऐलान किया है।

श्रीकृष्ण जन्मस्थान और ईदगाह प्रकरण में अब तक अदालत में 10 वाद दायर किये जा चुके है। पहला वाद 25 सितंबर 2020 को मथुरा कोर्ट में दायर किया गया था जो अभी कोर्ट में चल रहा है। 13.37 एकड़ जमीन से कब्जा हटाए जाने को लेकर बहुत पहले से ही मांग की जा रही है लेकिन अयोध्या फैसले के बाद इसकी मांग तेजी से होने लग गयी है।

कमेंट करें